मेरे सपनों का भारत पर निबंध | India of My Dreams Essay in Hindi | मेरे सपनों का भारत पर दस लाइन | 10 line on India of My Dreams With PDF

दोस्तों आज भारत देश विश्व की दरोहर माना जाता है। भारत देश का इतिहास काफी प्राचीन काल से चला आ रहा है। जो की अपने अंदर बहुत सी संस्कृति, भाषाएं, समुदाय, जाति और कई गुणों और अवगुणों को समेटे हुए है। भारत में आपको नदियां, झरने, नेहरे, सुंदर पहाड़, बर्फ इत्यादि जैसे सुंदर दृश्य देखने को मिल जाएंगे। भारत के अंदर हर 10 किलोमीटर पर भाषाएं बदलती रहती है। आपको इस देश के अंदर अलग-अलग तरह के पकवान और वेशभूषाएं भी देखने को मिल जाएंगी। इन सब प्राथाओं से मिलकर एक सुंदर भारत देश बना है। जिसे हम सब बहुत प्यार से भारत मां कहकर पुकारते हैं।

ऐसा मेरे सपनों का भारत हो जो हर किसी का भविष्य साँवरे:

हर कोई अपने भविष्य को लेकर चिंतित रहता है। उसके लिए लगातार काम करता रहता है। नई-नई योजनाएं बनाता रहता है। जिससे उसका भविष्य का संतुलित बना रहे हैं। तो मैं भी अपने भारत के बारे में सोचता रहता हूं कि मेरे सपनों का भारत कैसा होगा? मेरा सपनों का भारत ऐसा हो जिसमें सब संप्रदाय के लोग मिलकर रहे। कहीं पर भी जातिवाद, द्वेष, कट्टर धर्म, विवाद इत्यादि की जगह ना हो। सब लोग आपस में मिलकर दुख सुख बाँट सके।

ऐसा मेरे सपनों का भारत हो जहाँ हर कोई संस्कार सीखे:

हम अपने बच्चों को ऐसे संस्कार दें जो की उन्हें अपने माता-पिता और गुरुओं का आदर सम्मान करें । छोटे और बड़े से कैसे बात करें। यह भी अपने बच्चों में संस्कार डालें। ऐसा सपनों का भारत हो जिसका मैं सपना देखता हूं।

औद्योगिक और तकनीक क्षेत्र में नई ऊंचाइयां हो:

हमारे उज्जवल भविष्य के लिए निरंतर काम करते रहे और भारत को एक सपनों का देश बनाएं। बच्चों के भविष्य के लिए शिक्षा से संबंधित नई-नई योजनाएं बनाएं। उद्योगी क्षेत्र में आने वाले भविष्य को देखते हुए नए-नए रोजगार के अवसर बने। विज्ञान जगत में हर कोई नई ऊंचाइयां प्राप्त कर ले। जिससे हमारे आने वाले पीढ़ियों को एक सुंदर सपनों का भारत मिल सके।

समृद्ध और कृषि क्षेत्र बने:

मैं चाहता हूं की मेरा सपनों का भारत इतना समृद्ध और बहुत शक्तिशाली बन जाए कि विश्व का कोई भी देश हमसे शत्रुता लेने से पहले सौ बार सोचे और थर्र-थर्र कांप जाएं। मेरा भारत कृषि क्षेत्र में ऐसा काम करें कि बंजर भूमि को भी उपजाऊ बना दे। ऐसा मेरा सपनों का भारत हो जिसका मैं सपना देखता हूं।

ऐसा मेरे सपनों का भारत हो जहाँ भेदभाव मिटे:

मेरे सपनों का भारत ऐसा हो जिसमें अमीर से लेकर गरीब तक सब एक समान हो। मेरा सपनों का भारत ऐसा हो जिसमें लड़का और लड़की में भेद ना किया जाए। सब को एक समान देखा जाए।

हर कोई खुशहाल रहे:

मेरे सपनों का भारत ऐसा हो जहां पर हर परिवार के पास अपना एक खुद का घर हो। हमारी बहन-बेटियों के लिए घर में शौचालय हो। भारत में चारों तर खेत-खलियान  हरे-भरे गेहूं से लेकर शांति, सुख, समृद्धि का वातावरण हो। पंछी चाहे जहां रहे हो उनकी मधुर वाणी हमारे कानों में पड़ रही हो। ऐसा मेरे सपनों का भारत हो।

ऐसा मेरे सपनों का भारत हो जहाँ सब को रोजगार के अवसर प्रदान हो:

चारों तरफ खुशियों से भरा बवंडर हो। हर किसी के पास रोजगार या स्वरोजगार हो। हर व्यक्ति को पीने के लिए स्वच्छ पानी मिले। खाने के लिए अच्छा भोजन मिले। पहनने के लिए सुंदर वस्त्र मिले। दुनिया को राह दिखाने वाला मेरा भारत देश हो। ऐसे भारत का सपना मैं देखता हूं।

देश शिक्षित बने :

मेरे सपनों का भारत ऐसा हो जहां पर जितने भी प्रकार के जीव रहते हैं। वह आपस में मिल कर रहे। हर व्यक्ति पढ़ा लिखा हो। कोई भी व्यक्ति अनपढ़ ना रहे। जिससे हम एक विकासशील भारत का निर्माण कर सकते हैं।

देश भ्रष्टाचार मुक्त हो:

मेरे सपनों का भारत में भ्रष्टाचार की कोई जगह ना हो। भारत में जितने भी बलात्कारी हो, लुटेरे हो, ठग इत्यादि हो। इन सब की कोई भी जगह मेरे सपनों के भारत में ना हो। ऐसा मैं सपनों का भारत चाहता हूं।

सहज सरकार हो:

मेरे सपनों के भारत में ऐसी सरकारें हो जो जनता के हित में काम करें। जनता के दुख और सुख को अपना समझ सके और जनता के हित के लिये काम कर सके। वह ऐसी योजनाएं बनाएं जिससे जनता को तुरंत लाभ मिले। ऐसा मेरे सपनों का भारत हो।

मेरे सपनों के भारत पर 10 लाइन | 10 line on India of My Dreams:

  1. हमारे देश के बच्चों का भविष्य संस्कारी बने।
  2. भारत देश समृद्ध और शक्तिशाली बने।
  3. लड़का और लड़की में कोई भी भेदभाव न रहे साथ ही महिलाएं सशक्त सरूप बनकर उबरे।
  4. औद्योगिक क्षेत्र में नई ऊंचाइयां पाए।
  5. तकनीकी क्षेत्र में नयी-नयी खोज हो जो अपनी भारतीय राष्ट्र सेना को सुदृढ बनाए।
  6. जाति भेदभाव और रंग वेश-भूषा का द्वेष न हो
  7. कट्टरवाद धार्मिक जैसी कोई भी जगह ना हो।
  8. शिक्षा के क्षेत्र में अच्छा काम हो। हमारी आने वाली पीढ़ियां सशक्त रूप से पढ़े-लिखे और नव-निर्माण कर सकें।
  9. भ्रष्टाचार जैसे शब्द की सपनों के भारत में कोई जगह ना रहे।
  10. हर तरफ स्वच्छ और साफ वातावरण हो। ऐसा मेरे सपनों का भारत जिसका मैं सपना देखता हूं।

निष्कर्ष:

उम्मीद करता हूं की आप सभी को मेरे सपनों के भारत पर निबंध बेहद पसंद आया होगा, और आप भी इससे काफी ज्यादा रिलेट कर पा रहे होंगे अब अगर आपके इससे संबंधित कोई भी सवाल हैं तो उन्हें आप हमसे कॉमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *