रोजमर्रा की जिंदगी में विज्ञान पर निबंध | Essay on Science in Everyday Life in Hindi

वर्तमान युग विज्ञान का युग है। गुफावासी, बर्बर, नग्न लोग आज विज्ञान लक्ष्मी की कृपा से विकास के शिखर पर पहुंच गए हैं। विज्ञान को एक उपकरण की तरह इस्तेमाल कर लोगों ने प्रकृति के रहस्यों को खोज लिया है। विज्ञान ने झूठे अंधविश्वासों को खत्म कर दिया है। लोगों को तर्कसंगत बनाया।

विज्ञान का इतिहास:

विज्ञान की शुरुआत प्राचीन काल से होती है। इसकी शुरुआत लोगों को पत्थर फेंक कर आग लगाना सिखाने से हुई। मानव समाज ने आज 20वीं शताब्दी के वैज्ञानिक कंप्यूटर तक विभिन्न समयों पर विज्ञान के विभिन्न योगदानों से लाभान्वित किया है। लेकिन 18वीं शताब्दी की औद्योगिक क्रांति के बाद से विज्ञान ने जबरदस्त प्रगति की है।

रोजमर्रा की जिंदगी में विज्ञान:

हमारे दैनिक जीवन में विज्ञान का योगदान हर क्षेत्र में है। घड़ी की आवाज के प्रति जागना, बिजली के ओवन में बना चाउ खाना खाना, साइकिल या कार से स्कूल जाना, कक्षा में विभिन्न सामग्रियों का उपयोग करना, टीवी देखना या संगीत सुनना हर पहलू में विज्ञान का योगदान स्पष्ट है। तुम घर लौटते हो, और पंखे के साथ सो जाते हो।

उद्योग में विज्ञान:

विज्ञान के क्षेत्र में विज्ञान की देवी की अनुपम देन। विज्ञान के योगदान से लघु उद्योगों से बड़े पैमाने के इंजीनियरिंग, लोहा और इस्पात उद्योग विकसित हुए हैं। कारखाने की मशीनरी की राक्षसी ताकत और कार्रवाई पर विश्वास नहीं किया जा सकता है।

कृषि में विज्ञान:

कृषि में मांधाता काल के हल और गायों का प्रयोग कम हो गया है। विज्ञान की बदौलत अब ट्रैक्टर, पावर टिलर जैसी आधुनिक मशीनरी का उपयोग किया जा रहा है। अधिक उपज के लिए नवीनतम उच्च गुणवत्ता वाले बीजों और कृत्रिम उर्वरकों का उपयोग किया जा रहा है

चिकित्सा में विज्ञान:

चिकित्सा विज्ञान भी आज बहुत ऊंचे स्तर पर पहुंच गया है। एक्स-रे, अल्ट्रा सोनोग्राफ, ईसीजी, सीटी स्कैन आदि के माध्यम से शीघ्र निदान संभव होने के कारण उन्नत चिकित्सा, विभिन्न तरंग किरणों और शल्य चिकित्सा के माध्यम से रोग का उपचार किया जा रहा है।

संचार विज्ञान:

विज्ञान ने दूरी को निकट कर दिया है। टेलीफोन, टेलीग्राफ, टेलीग्राम, फैक्स आदि के माध्यम से हजारों मील का संचार संभव हो रहा है।

विज्ञान और मनोरंजन:

विज्ञान ने मानव मनोरंजन भी प्रदान किया है। विभिन्न खेलों में प्रयुक्त होने वाले उपकरण विज्ञान की देन है। इसके अलावा रेडियो, टेलीविजन आदि लोगों के फुरसत के मनोरंजन के साथी बन जाते हैं। आजकल उपग्रह संस्कृति बहुत लोकप्रिय है।

परिवहन के क्षेत्र में विज्ञान:

विज्ञान ने लोगों और वस्तुओं के परिवहन के लिए बसें, ट्रक, रेलगाड़ियाँ, हवाई जहाज आदि दिए हैं। साथ ही हेलीकॉप्टर, युद्धपोत आदि ने शरीर की रक्षा प्रणाली को मजबूत किया है।

संगणक:

कंप्यूटर विज्ञान की सबसे बड़ी देन है। वर्तमान में कोई भी क्षेत्र ऐसा नहीं है जहां कंप्यूटर का उपयोग न हो। शिक्षा, चिकित्सा, संचार, उद्योग सभी क्षेत्रों में विभिन्न प्रकार के कंप्यूटरों का उपयोग किया जा रहा है।

दुर्व्यवहार करना:

आज की दुनिया में मुट्ठी भर समूह विज्ञान और उसके उपहारों का दुरुपयोग कर रहे हैं। विभिन्न प्रकार के विस्फोटक और युद्ध उपकरण बनाना। परमाणु बम की खोज हुई थी जो मूल रूप से वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए इस्तेमाल किया गया था लेकिन अब यह मौत का हथियार बन गया है। ये हथियार विज्ञान की देन हैं। इन उपकरणों के आसपास अलगाववाद शुरू हुआ।

निष्कर्ष:

किसी भी विषय की अच्छाई और बुराई पूरी तरह से प्रयोग करने वाले पर निर्भर करती है। विज्ञान के लाभकारी पहलू विशाल हैं जिनकी तुलना में बुराइयाँ नगण्य हैं। लेकिन अगर लोग इस डार्क साइड की तरफ ज्यादा झुकते हैं तो विज्ञान को दोष नहीं दिया जा सकता। तो मैं कहूँगा, यदि लोग बुरे पक्ष को त्याग कर विज्ञान का उपयोग मानव कल्याण के लिए करेंगे, तो विज्ञान लोगों को लाभ पहुँचाएगा। विज्ञान हमारे दैनिक जीवन में एक विश्वसनीय साथी बनेगा।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *